Welcome to Wish4Me!
 
Free Registrations .....Quick & Easy
Daily Zodiac....... Fameous Astrologers
Make Wishlist.... Post your wish
Get Pleasure......Fulfill someone's wish
Discuss your problem.....Share Problems
  Sign In
 
 
 
Forget Password
  Register Now        
   
  Title आरती कुँज बिहारी की
  Content आरती कुँज बिहारी की , श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की
गले में वैजन्ती माला, माला बजावे मुरली मधुर बाला
बाला श्रवण में कुण्डल झलकाला, झलकाला नन्द के नन्द
श्री आनन्द कन्द, मोहन बॄज चन्द
राधिका रमण बिहारी की , श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की
गगन सम अंग कान्ति काली, काली राधिका चमक रही आली
आली लसन में ठाड़े वनमाली, वनमाली कुंज बिहारी की भ्रमर सी अलक
कस्तूरी तिलक चन्द्र सी झलक , ललित छवि श्यामा प्यारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की, जहाँ से प्रगट भयी गंगा
गंगा कलुष कलि हारिणि, श्री गंगाकुंज बिहारी की गंगा
स्मरण से होत, मोह भंगा भंगा बसी शिव शीश
जटा के बीच हरे अघ कीच , चरण छवि श्री बनवारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की, कनकमय मोर मुकुट बिलसै
बिलसै देवता दरसन को तरसै, तरसै गगन सों सुमन राशि बरसै
बरसै अजेमुरचन, मधुर मृदंग मालिनि संग अतुल
रति गोप कुमारी, की श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की
चमकती उज्ज्वल तट रेणु, रेणु बज रही बृन्दावन वेणु
वेणु चहुँ दिसि गोपि काल धेनु, धेनु कसक मृद मंग
चाँदनि चन्द, खटक भव भन्ज
टेर सुन दीन भिखारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ..
     
 
Please Click here to enter the website
Copyright © Web4Bharat2005-11. All Rights Reserved. Last Updated: 15 March, 2007 Counter:- 210059